Friday, January 28, 2022
Home > Jabalpur > MP में एक और रेलवे स्टेशन बदलेगा, मॉर्डन टेक्नोलॉजी वाला सबसे सुन्दर और रानी कमलापति से अध्भुत होगा

MP में एक और रेलवे स्टेशन बदलेगा, मॉर्डन टेक्नोलॉजी वाला सबसे सुन्दर और रानी कमलापति से अध्भुत होगा

Madan Mahal Railway Station Jabalpur

File Photo Used

Jabalpur: भारतीय रेलवे और मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) सरकार ने हाल ही में भोपाल स्थित हबीबगंज रेलवे स्टेशन को मार्डन लुक देकर देश का पहला ऐसा रेलवे स्टेशन बना दिया और नाम भी बदलकर रानी कमलापति (Rani Kamlapati Railway Station) कर दिया। अब सरकार एक और रेलवे स्टेशन को बदलने जा रही है और इसे शानदार लुक देकर शानदार टेक्नोलॉजी से लेश करके रानी कमलापति से भी और बढ़िया रेलवे स्टेशन करने की तैयारी की जा रही है।

असल में देश के तीसरे और मध्य प्रदेश के पहले पिंंक स्टेशन मदनमहल रेलवे स्टेशन (Madanmahal Railway Station) को पश्चिम मध्य रेलवे नया लुक देने जा रहा है। खबर है की इसे टर्मिनल के रूप में विकसित किया जा रहा है।

इसे रानी कमलापति स्टेशन की तरह बनाने में 120 करोड़ रुपयों की लागत आने की बात कही गई है। इसके साथ ही साथ नई लाइन बनाने, ऑफिस, बुकिंग काउंटर समेत अन्य सुविधाएं भी मार्डन और आकर्षक करने की कवायद तेज़ है।

प्लेटफॉर्म की संख्या बधाई जाएगी

बीते दिनों बताया गया था की भविष्य में मदनमहल रेलवे स्टेशन से अन्न 7 ट्रेनों का को शुरू किया जाएगा। यहाँ प्लेटफॉर्म की संख्या बढ़ाकर 4 की जा रही है। आने वाले दिनों में इस स्टेशन से जुड़ी 4 मुख्य रेलवे लाइन सहित 1 लूप लाइन भी करने की योजना है। रेलवे की ओर से इसकी योजना बनाई जा रही है।

ऐसी भी मांग उठी की जबलपुर रेल मंडल के मदन महल रेलवे स्टेशन (Madan Mahal Station) और मैहर रेलवे स्टेशन (Maihar Railway Station) का नाम बदला जाए। मदन महल रेलवे स्टेशन को राजा रघुनाथ शाह के नाम पर किया जाए और मैहर रेलवे स्टेशन का नाम मां शारदा किया जाए। यह सुझाव जबलपुर रेल मंडल के साथ सांसदों ने रखा था।

आपको बता दें की शक्ति पीठ माता मंदिर माँ शारदा के दर्शन करने लोग मैहर रेलवे स्टेशन ही उतारते हैं। यह जबलपुर और मदन महल स्टेशन से ट्रैन के माध्यम से 2 घंटे की दूरी पर है। इस मंदिर से प्राचीन आल्हा उदल की कहानी जुड़ी है और यह माता के भक्तों में बहुत खास स्थान है।

पश्चिम मध्य रेलवे ने रीडेवेलपमेंट प्रोजेक्ट का हिस्सा

ऐसे में जल्द ही मध्य प्रदेश के जबलपुर का मदन महल स्टेशन (Madan Mahal Railway Station) जल्द रानी कमलापति रेलवे स्टेशन की तर्ज पर नए रंग रूप में नजर आएगा। पश्चिम मध्य रेलवे ने रीडेवेलपमेंट प्रोजेक्ट के तहत स्टेशन पर रिनोवेशन का काम तेज़ कर दिया है।

मदन महल के प्लेटफॉर्म-1 का नया बेस बनाया जाना है। पटरी बिछाने का काम भी किया जाना है। इसे टर्मिनस के रूप में विकसित किया जा रहा है। रेलवे स्टेशन के करीब ही रेल कोच रेस्टोरेंट शुरू करने की योजना है। पश्चिम मध्य रेलवे मदन महल स्टेशन में मौजूद सभी प्लेटफॉर्म को नया रूप दे रहा है।

यहाँ यह शादार आधुनिक सुविधाओं दी जाएँगी

फिर यहाँ के सभी प्लेटफॉर्म को 100 करोड़ रुपये से अधिक लागत लगाकर भोपाल के रानी कमलापति स्टेशन की तर्ज पर आधुनिक सुविधाओं से नवाज़ा जाएगा। यहां डिजिटल बोर्ड के साथ-साथ एस्केलेटर, लिफ्ट समेत अन्य सुविधाएं प्रदान की जाएँगी।

आपको बता दें की अभी जबलपुर के मॉडल महल स्टेशन पर 3 प्लेटफॉर्म्स ही हैं। इन्हें बढ़ाकर 4 प्लेटफॉर्म्स किया जा रहा है। इससे यह फायदा होगा की यहाँ ज्यादा ट्रेनें स्टेशन पर खड़ी हो पाएंगी। इस स्टेशन से दिल्ली, कोलकाता, रीवा की ओर जाने वाली गाड़ियों की शुरुआत भी हो पायेगी।

इस बात पर ध्यान दिया जा रहा है की मदन महल स्टेशन का रिनोवेशन होने के बाद यहां एक्सप्रेस ट्रेनों का स्टॉपेज संभव हो पायेगा। इसके पहले पश्चिम मध्य रेलवे ने जबलपुर मुख्य स्टेशन का भी विस्तार किया था और रीडेवेलपमेंट प्रोजेक्ट के तहत इसे हेरिटेज बिल्डिंग के रूप में तैयार किया।

देश का सबसे सुन्दर रेलवे स्टेशन बनाने की योजना

ऐसे ही मदन महल स्टेशन की थीम भी हेरिटेज ही रखी गई है। इसे इस तरह डिजाइन किया जाएगा कि यहां आने वाले इसकी मॉर्डन लुक और सुंदरता से आकर्षित हों और यह रानी कमलापति स्टेशन की याद दिला दे। फिलहाल इसके बाहरी हिस्से की बनावट कैसी होगी, इसे रेल विभाग ने बताया नहीं है।

रेलवे स्टेशनों के रिनोवेशन (Renovation) में पश्चिम मध्य रेलवे इन दिनों पूरे देश में सबसे आगे है। यही कारन है की अब छोटे स्टेशनों में जाना जाने वाला मदन महल का लुक बदलकर इसे बड़ा बनाया जायेगा। हो सकता है की इसमे नाम भी बदल दिया जाये और मांग के मुताबिक़ राजा रघुनाथ शाह रखा जाये।

Railway Train

मदनमहल रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर-1 व 4 में 26 कोच का फुल रैक के हिसाब से जगह विस्तारित की जा रही है। इस रेलवे स्टेशन परिसर में ही रेल कोच रेस्टॉरेंट भी शुरू किया जाएगा। दावा किया जा रहा है कि यात्रियों को यहां उचित मूल्य पर भोजन व नाश्ते की सुविधा मुहैया कराई जाएगी।

रेल कोच रेस्टोरेंट शुरू करने की योजना

सूत्रों से ऐसी जानकारी मिली है की मदनमहल रेलवे स्टेशन के पास ही रेल कोच रेस्टोरेंट (Rail Coach Restaurant) शुरू करने की योजना है। इसके लिए रेल उत्सव भवन के पास भूमि पॉइंट कर ली गई है। जल्द ही यहां पर रेल कोच में रेस्टॉरेंट खोल दिया जाएगा। कहा गया है की पुराने कोच रेस्टोरेंट के लिए सेलेक्ट कर लिए गए हैं। इस रेस्टोरेंट में रेल यात्रियों के अलावा शहर की आम जनता भी स्वादिष्ट और लज़ीज़ खाने और फ़ास्ट फ़ूड का आनंद ले सकेंगे।

इस स्टेशन पर यात्रियों के लिए फूड प्लाजा, कैफे और वेटिंग लाउंज होगा। स्टेशन में अब डिस्प्ले बोर्ड बड़ी स्क्रीन वाले होंगे। ट्रेन के आने-जाने के समय के साथ-साथ सीट की उपलब्धता की जानकारी भी मुहैया कराई जाएगी। इससे यात्रियों को बड़ी सुविधा हो जाएगी और ट्रैन का इंताजर करने वाले यात्री बोर भी नहीं होंगे। इस लिहाज से कहा जा सकता है कि देश के सबसे सुंदर स्टेशन (Most Beautiful Railway Station) अब मध्य प्रदेश में बन रहे हैं।

ENN Team
This is Staff Of Ek Number News Portal with editor Nitin Chourasia who is an Engineer and Journalist. For Any query mail us on eknumbernews.mail@gmail.com
https://eknumbernews.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!