यह 50 साल की महिला ऑटो चला रही और मुफ्त में महिलाओं और बुजुर्गों को सेवाएं दे रही, पूरी डिटेल

0
1118
Raji Ashok autorickshaw driver
This 50 year old woman auto driver is doing great job. She is helping many women and old age people for free. Famous as Auto Akka.

Photo Credits: ANI On Twitter

Chennai: बड़े-बड़े शहरों में काफी दूर-दूर तक घर बसे होते हैं, ऐसी स्थिति में अक्सर ऑटो रिक्शा का सहारा लेना पड़ता है या जिसका स्वयं का वाहन है, वह उसका इस्तेमाल करके अपने गंतव्य तक पहुंचता है। अक्षर शहरों में प्राइवेट बस और ऑटो में काफी ज्यादा अपराध होते हुए देखे गए है।

इन अपराधियों ने लोगों को बुरी तरह से डर आया हुआ है, ऐसे में कई बार देर रात में घर की बेटियां घर से निकलने में हिचकिचाती है। इसके साथ ही वे ऑटो में बैठने में भी काफी ज्यादा डरती है। परंतु कुछ शहरों में आगे महिला रिक्शा चालक होने के कारण उन शहरों में बेटियों का रात के वक्त ऑटो से यात्रा करने का डर लगभग समाप्त हो गया है।

जी हां दोस्तों देश के कई शहरों में ऐसी महिलाएं भी हैं जो ऑटो रिक्शा (Auto Rickshaw) चला कर अपना परिवार पालती है, साथ ही बेटियों को सुरक्षा प्रदान करती हैं, इन्हीं में से एक हैं चेन्नई की ऑटो अक्का। तो आइए जाने ऑटो अक्का के बारे में।

पैसों से ज्यादा सुरक्षित गंतव्य तक पहुंचाना है कर्तव्य

एक रिपोर्ट के मुताबिक चेन्नई की 50 वर्षीय रिक्शा चालक जिनका नाम राजी अशोका है। इनका कहना है कि वे पैसों से ज्यादा महिलाओं और बुजुर्गों को सेवा को महत्व देती है। उनकी कोशिश रहती है कि वे महिलाओं और बुजुर्गों को सुरक्षित उनके स्थान तक पहुंचा सकें। उन्होंने अपने इंटरव्यू में बताया है कि वे इस काम को अपना कर्तव्य मानते हैं। राजी अशोका पिछले 23 वर्ष से रिक्शा चला रही है।

वे कहती हैं कि उन्हें इस काम मैं किसी भी प्रकार की शर्म महसूस नहीं होती और ना ही वे किसी भी प्रकार की बेईमानी करती। दोस्तों अक्सर बड़े शहरों में देखा गया है कि ऑटो चालक अपने पैसेंजर ओं के साथ काफी ज्यादा बेईमानी कर देते हैं, दूर शहर से आए लोगों को वहां ज्यादा पैसे डिमांड करते हैं। परंतु राजी अशोका को कभी भी पैसों का कोई लालच नहीं रहा बल्कि वे महिलाओं और बुजुर्गों की मुफ्त में सेवा करती है।

महिलाओं की सुरक्षा के लिए रातों में भी शुरू किया ऑटो चलाना

एक इंटरव्यू के दौरान राजी अशोका याने ऑटो अक्का बताती है कि पहले वे केवल दिन में ही ऑटो चलाया करती थी। परंतु एक बार की बात है, जब वे अपने घर को लौट रही थी उस समय एक ऑटो चालक पूरी तरह शराब के नशे में धुत पड़ा हुआ था।

उसके बाद वह सड़कों पर ऑटो दौड़ा रहा था और उसमें एक महिला सवार थी। ऐसे में ऑटो अक्का को एहसास हुआ कि महिलाएं ऐसे माहौल में सुरक्षित नहीं रह सकती, इसीलिए उन्होंने सोचा कि अब वह रात में भी ऑटो चलाएंगे और केवल महिलाओं को उनके गंतव्य तक पहुंचाने का कार्य करेंगी।

एक रिपोर्ट के अनुसार राजी अशोका को ऑटो अक्का (Auto Akka) नाम महिलाओं ने दिया। महिलाओं के लिए राजी ना दिन देखती है और ना रात उनका ऑटो बुकिंग करने पर 1 घंटे के भीतर उस महिला यात्री के पास पहुंच जाता है।

ग्रेजुएट है ऑटो आपका

जानकारी के अनुसार राजी अशोका (Raji Ashok) केरल की बेटी और चेन्नई की बहु है। राजी एक वेल एजुकेटेड महिला है। उन्होंने आर्ट में ग्रेजुएशन किया हुआ है। ग्रेजुएशन के बाद में उन्हें जा नौकरी प्राप्त नहीं हुई तो उन्होंने अपने पति के व्यवसाय को अपना व्यवसाय बना लिया। जी हां दोस्तों राजी शादी के पश्चात चेन्नई शिफ्ट हो गए और उनके पति एक ऑटो चालक थी।

राजी ने अपने घर परिवार को चलाने के लिए और अपने पति को सपोर्ट करने के लिए उन्होंने अपने पति का कारोबार शुरू कर दिया। वर्तमान समय में राज्य काफी ज्यादा चर्चा में है, क्योंकि जिस काम को उन्होंने अपने परिवार को चलाने के लिए प्रारंभ किया था आज वही काम उन्हें सम्मान दिला रहा है। घर परिवार चलाने के लिए शुरू किया गया काम आज महिलाओं और बुजुर्गों की सुरक्षा और सेवा बन गया है।

सरकार से की अपील

ऑटो अक्का ने महिलाओं के हित के लिए सरकार से अपील की है कि अशिक्षित महिलाओं को मुफ्त में ड्राइविंग सिखाई जाए जिससे वह अपना खुद का एक रोजगार प्रारंभ कर सकें। अक्का का कहना है कि महिलाएं शिक्षित होने की वजह से कम वेतन पर मजदूरी से भी ज्यादा काम करती हैं और वेतन उन्हें मेहनत से कम मिलता है।

यदि महिलाएं ड्राइविंग सीखने और बिना शर्म किए मैदान में उतर जाए तो वे महीने का 15 से 20000 RS आराम से कमा लेती है। वहीं ऑटो अक्का ने अभी तक 10,000 से भी ज्यादा महिलाओं को सुरक्षित अपने गंतव्य तक पहुंचाया है साथ ही ढेरों सवारिया उन्होंने मुफ्त में घुमाई है। राजी अशोका याने ऑटो अक्का के इस कार्य को देख हर कोई उनकी तारीफ है कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here