बस कंडक्टर की बेटी ने 500 में से 499 नंबर लाकर चकित किया, अब इस मिशन की तैयारी में जुटी

0
408
Haryana Topper Amisha
Roadways conductor’s daughter Amisha topped in 10th board exam in Haryana. Amisha want to do Computer Engineering in IIT.

Photo Credits: Twitter

Karnal: हम गरीब घर में पैदा हुए यह हमारा भाग्‍य था। लेकिन हमारे माता पिता गरीब है, इसलिए हम भी हमेशा गरीब रहेंगे यह सोच बहुत से लोगो की होती है। लेकिन बच्‍चे अपनी मेहनत और दृढ निश्‍चय से लोगो की इस सोच को बदल देते है। जिससे माता पिता अपने बच्‍चों पर गर्व करने को मजबूर हो जाते है।

हमारे स्‍कूल का प्रदर्शन जीवन में सक्‍सेस प्राप्‍त करने की पहली सीढ़ी होती है। बोर्ड की परीक्षा का रिजल्‍ट (Board Exam Result) घोषित होते ही बच्‍चों कि सक्‍सेस की खबरे आने लग जाती है। कुछ बच्‍चें घर कि कठिन परिस्थिति के बावजूद भी अपने लक्ष्‍य को अपने जज्‍बें और जुनून से हासिल कर लेते है।

कुछ ऐसा ही कार्य हरियाणा (Haryana) की रहने वाली एक लड़की ने कर दिखाया है। उसने अपनी सफलता से अपने गरीब पिताजी का नाम पूरे देश में रोशन कर दिया है। किस तरह किया गरीब परिस्थिति का सामना और प्राप्‍त की सफलता आइये जानते है, उस होनहार बच्‍ची के बारे में।

कंडक्‍टर की लड़की ने किया कमाल

अभी हाल ही में हरियाणा में दसवी बोर्ड (10th Board) के रिजल्‍ट घोषित किये गये है। बहुत से विद्यार्थियों ने इसमें अच्‍छे अंक लाकर सफलता प्राप्‍त की है। लड़को की तुलना में लड़कियों ने अधिक अंक हासिल किये है।

वही इन सब के बीज हरियाणा की बेटी जिनका नाम अमीशा (Amisha) है। उन्‍होंने इस परीक्षा में 500 में से 499 अंक हासिल किये है। अमीशा हरियाणा के ईशरावल स्‍कूल की छात्रा है। अमीशा मंढाणा गॉंव की रहने वाली है।

अमीशा के पिता का नाम वेदप्रकाश (Ved Prakash) है, जोकि रोडवेज में कंडक्‍टरी (Roadways Conductor) का काम करते है तथा अमीशा की मॉं एक गृहणी है। मध्‍यमवर्गीय परिवार से ताल्‍लुक रखने के बाद भी अमीशा ने इतने अच्‍छे अंक हासिल करके अपने माता पिता का सर गर्व से उॅचा कर दिया है।

घर की परिस्थिति इतनी कमजोर होने पर भी अमीशा के माता पिता ने उसकी पढ़ाई में कोई कमी नहीं रखी। अमीशा ने भी अपनी कड़ी मेहनत के बीच घर कि परिस्थिति को आने नहीं दिया। अमीशा अपनी सफलता का क्रेडिट अपने माता पिता की मेहनत और उनके प्‍यार को देती है। वह कहती है कि अगर माता पिता ने उनका साथ नहीं दिया होता, तो वह इतना अच्‍छा प्रदर्शन नहीं कर पाती।

जेईई एडवांस की परीक्षा देना चाहती है अमिशा

अमिशा से जब उनके फ्यूचर प्‍लानिंग के बारे मे पूछा गया तो वह बताती है कि वह जेईई एडवांस की परीक्षा (JEE Advanced Ecam) देना चाहती है। अमिश चाहती है कि इस परीक्षा को पास करके वह आई आई टी (IIT) में एडमिशन लेकर इंजीनियरिंग की पढ़ाई करे।

अमिशा चाहती है, कि वह कम्‍यूटर साइंस (Computer Science) के द्वारा इंजीनियरिंग (Engineering) कंम्‍पलीट करें। वह कहती है कि जेईई एडवांस की तैयारी उन्‍होंने अभी से शुरू कर दी है। उनकी योजना इसके लिए पूरी बन चुकी है।

अमिशा के स्‍टूडेंट को खास टिप्‍स

अमीशा ने पूरे हरियाणा में टॉप किया है। जब उनसे उनकी इस सक्‍सेस के बारे में पूछा गया तो वह बताती है कि कभी भी हम रोट लर्निंग करके सफलता प्राप्‍त नहीं कर सकते है। अमिशा कहती है कि जब तक हमारे टॉपिक को लेकर कन्‍सेप्‍ट क्‍लीयर नहीं होते उस टॉपिक को हम सही से याद नहीं रख पाते। इसलिए हमारा कन्‍सेप्‍ट क्‍लीयर करना बहुत जरूरी है।

वह (Topper Amisha) कहती है कि कन्‍सेप्‍ट क्‍लीयर करके ही हम उस टॉपिक को ज्‍यादा समय तक याद रख पाते है। इसके अलावा अमिशा स्‍टूडेंट को सलाह देती है, कि उन्‍हें कभी भी परीक्षा का प्रेशर लेकर पढ़ाई नहीं करना चाहिए। एक दम शांत दिमाग से पढ़ाई करना चाहिए। क्‍योंकि शांत दिमाग से पढ़ने से हमारा मेमोरी पॉवर बढ़ता है।

परिवार की गरीबी दूर करने का है लक्ष्‍य

‍‍अमिशा कहती है कि वह कड़ी मेहनत करके इतनी सक्‍सेस हासिल करना चाहती है कि वह अपने परिवार की आर्थिक स्थिति में सुधार ला सके। वह कहती है, कि उनका सपना अपने मॉं पिता की गरीबी को दूर करना हैे।

अमिशा का एक बड़ा भाई भी है। वह अभी बारहवी में है। अमिशा का भाई भी पढ़ाई में बहुत अच्‍छा है। हमें उम्‍मीद है कि दोनों भाई बहन मिलकर एक दिन परिवार की आर्थिक स्थिति सुधारने में जरूर सफलता प्राप्‍त करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here