Tuesday, October 26, 2021
Home > Zabardast > बच्चे को मिला 12 हजार साल पुराने विसाल जानवर के जीवाश्म का हिस्सा, पत्थर समझ कर खेल रहा था

बच्चे को मिला 12 हजार साल पुराने विसाल जानवर के जीवाश्म का हिस्सा, पत्थर समझ कर खेल रहा था

Mastodon tooth at Michigan

Photo Credits: Twitter

Delhi: अगर आपको कहीं कोई पत्थर मिले जिसके बारे में आपको बाद में पता चले कि यह कोई साधारण पत्थर नहीं, बल्कि हजारों साल पुराने एक जानवर के अवशेष का हिस्सा है। सोचिये आप इसकी सहयता से रातों-रात मशहूर हो जाएगे। संपूर्ण विश्व भर में विभिन्न क्षेत्रों में लोग पृथ्वी पर मौजूद वस्तुओं के विषय में खोजबीन करते रहते हैं।

कुछ लोग इसके लिए एक गिरोह (Team) का निर्माण तक करते हैं और कभी किसी को यह अचानक ही मिल जाता है। अभी तो खेल खेल में या फिर राह चलते वक़्त इसी पर ठोकर लग जाती है, तब आप के आपने सौभाग्य के विषय में केवल कल्पना ही कर सकते हैं।

एसा ही कुछ हुआ यूनाइटेड स्टेस्ट्स (United States) के मिशिगन (Misigun) में एक 6 वर्ष के बच्चे ने अचानक ही 12 हजार साल पुराने एक ऐसे जीव (12 Thousand Old Fossil Found) के जीवाश्म की खोज कर डाली, जो अब विलुप्त हो चुके हैं।

6 साल के बच्चे ने खोजा

ये खोज 6 वर्ष के जूलियन गैगनों (Julian Gagnon) ने मिशिगन से की। यहां जूलियन अपने पिता के साथ एक डायनासोर हिल नेचर प्रिजर्व (Dinosaur Hill Nature Preserve) नामक स्थान में घूमने आया था। जूलियन अपने परिवार के साथ रिजर्व में गया था, जहां उसे एक बड़े आकार का पत्थर का टुकड़ा मिला।

जब पिता ने जूलियन के हाथों में ये विचित्र सा पत्थर देखा तो उसे संदेह हुआ कि ये कुछ और ही है। असल में ये कोई पत्थर नहीं बल्कि मास्टोडोन्स (Mastodon) नामक ऐसे जानवर के जीवाश्म (Mastodon fossils) का हिस्सा था, जो आज से 12 हजार वर्ष पहले धरती पर घूमता था।

हाथि जेसा है यह जानवर

मास्टोडोन्स आज से लगभग 12 हजार साल नार्थ और सेंट्रल अमेरिका (North And Central America) में घुमा करते थे। हजारों वर्ष पहले ये लुप्त हो गए थे। मास्टोडोन्स आज के हाथियों (Elephant) जैसे नजर आते थे। इनकी ऊंचाई तकरीबन 9 फ़ीट 5 इंच तक हो सकती थी। इसके अलावा इनका वजन 11 टन तक हो सकता था। जूलियन के हाथ इसी मास्टोडोन्स का जबड़ा लगा था। परिवार को काफी ध्यान से देखने पर मालूम चला कि असल में ये जीवाश्म था।

जूलियन के परिवार ने इस जीवाश्म को एक संग्रहालय (Museum) में दान कर दिया। म्यूजियम के गाइड ने बताया है कि इतने हजार साल पुराने जीवाश्म को इतने अच्छे हालत में देखकर किसी को यकीन नहीं हुआ। आगे जूलियन एक खोजकर्ता बनना चाहता है, अब इस जबड़े के आधार पर मास्टोडोन्स के विषय में और भी जानकारी इक्कठा की जाएगी।

ENN Team
This is Staff Of Ek Number News Portal with editor Nitin Chourasia who is an Engineer and Journalist. For Any query mail us on eknumbernews.mail@gmail.com
https://eknumbernews.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!