मात्र 17 साल की उम्र में खुदका बिजनेस शुरू किया और छोटे शहर का होकर करोड़ों का एम्पायर बनाया

0
4069
Akhilendra Sahu ASTNT Technologies
Akhilendra Sahu Is the Youngest Serial Entrepreneur From India. He is the founder and CEO of ASTNT Technologies Pvt Ltd.

Photo Credits: Twitter(@akhilendra_sahu)

Jabalpur: कहते है बचपन एक ऐसा दौर होता है, जिसमे बच्चो को न तो कोई डर होता है न ही कोई चिंता मस्ती से खेलना कूदना और खाना। परंतु जैसे जैसे उम्र बढ़ती है वैसे वैसे अपने भविष्य की चिंता और घर परिवार की चिंता होती है। वो दौर किशोर अवस्था कहलाती है।

उस उम्र में अक्ल आनी शुरू हो जाती है। कुछ बच्चो को थोड़ा समय लगता है और कुछ को बहुत कम समय में अक्ल आ जाती है। बच्चो का पारिवारिक परिवेश बहुत मायने रखता है उनके बड़े और समझदार हो रहे दिनों में। 15 से 16 वर्ष की उम्र में बच्चे समझदार होते है और उन्हें समझ आता है कि अब अपने भविष्य में क्या करना है।

17 से 20 साल की उम्र पढ़ाई करने और अपने उज्वल भविष्य को बनाने के लिए लगने वाला समय होता है। परंतु कुछ बच्चे कम उम्र में ही बेहद समझदार और अपने भविष्य के लिए सीरियस हो जाते है। और अपने आने वाले कल के लिए अच्छे से अच्छा विकल्प खोजने लगते है और उनकी मेहनत बहुत जल्द रंग भी ले आती है।

जिस उम्र में लोग अपना फ्यूचर सेट करने का प्लान बनाते उस उम्र में वे अपना ब्राइट फ्यूचर बना चुके होते है। ऐसी ही एक जानी मानी हस्ती है। जिसने महज 19 साल की उम्र में अपनी कंपनी को करोडो में पंहुचा दिया। आज हम बात करेंगे एक 19 साल के युवक की जो आज करोडो का मालिक है।

अखिलेन्द्र साहू (Akhilendra Sahu) के सफलता की कहानी

100 मे से 10 प्रतिशत ऐसे लोग होंगे जिन्हें अपनी उम्र से ज्यादा सफलता मिली है। ये सफलता हमेशा उन्हें ही मिलती है, जो सही उम्र और समय का इंतजार किये बिना अपनी मेहनत करते है। अखिलेन्द्र साहू (Akhilendra Sahu) भी इन्हीं में से एक है, जिन्होंने अपने दम पर वो पहचान बनाई की दुनिया उन्हें देखती रह गई।

आज वे सफल होकर स्वयं अपनी कहानी लिख रहे है। अखिलेन्द्र अभी सिर्फ 19 वर्ष के है और वे एक एंटरप्रेन्योर की हैसियत से लोगो के सामने आए और अपनी पहचान बनाई। अखिलेन्द्र ने कम समय में स्वयं की एक कंपनी एएसटीएनटी टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड (ASTNT Technologies Private Limited) को स्थापित किया। आज उनकी आय करोड़ों रुपय है। अखिलेन्द्र का यहाँ तक का सफर आसान नहीं था।

17 वर्ष की उम्र में फ्रीलेंसिंग बनी शुरुआत

अखिलेन्द्र मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) राज्य के नरसिंहपुर (Narsinghpur) जिले के निवासी है। वे शुरु से और लोगो से अलग है। उन्होंने कभी गलत चीजें की संगत नहीं की जिस उम्र में उनका लक्ष्य निर्धारित हो गया था। उस उम्र में काफी युवा पढ़ाई और करियर के लिए मेहनत कर रहे होते है।

अखिलेन्द्र की बचपन से एक ही चाहत थी की वे स्वयं की व्यावसायिक कंपनी (Business Company) खोल सके। इस सपने को पूरा करने के लिये उन्होंने 17 वर्ष की उम्र से काम करना प्रारंभ कर दिया। शुरुआत उन्होंने फ्रीलांसिंग के काम से की।

अखिलेंद्र इस बात से बहुत अच्छी तरह वाकिफ थे की उनका ये रास्ता बहुत मुश्किल होगा। फिर भी उन्होंने अपने फैसले को नहीं बदला और उस पर काम करते रहे। अखिलेन्द्र को अपने परिवार से पूरा सपोर्ट मिला। जिससे वे आगे बढ़ते गए।

अपने निरंतर प्रयास से उन्हें एक बहुत ही अच्छा परिणाम मिला वो यह था कि अखिलेंद्र ने कुछ ही समय में स्वयं की कंपनी एएसटीएनटी टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना कर ली। अखिलेन्द्र के द्वारा स्थापित यह कंपनी देश-विदेश में टेक्नोलॉजी और डिजिटल सेवाएं (Digital Services) उपलब्ध कराती है।

कंपनी स्थापित करने से पूर्व डिजिटल मार्केटिंग का काम किया

अखिलेन्द्र के द्वारा स्थापित कंपनी से अखिलेन्द्र बेहद खुश थे। वे अपनी कंपनी के माध्यम से न केवल पैसे कमाने चाहते है, बल्कि वे दूसरों की मदद भी करना चाहते है। वे इस फील्ड में बहुत जॉब्स भी जेनेरेट करना चाहते हैं।

कंपनी की स्थापना के पूर्व उन्होंने पहले डिजिटल मार्केटिंग (Digital Marketing) साइट्स पर भी काम किया है। जिससे वे काफी कुछ सीख सके। इसके बाद उन्होंने जो कुछ भी सीखा था, उससे वे लोगों की मदद करना चाहते थे। इसी सोच के जरिये उन्होंने अपनी कंपनी की स्थापना की।

अखिलेन्द्र ने और कम्पनियो के साथ ग्राहक की जरुरतो को पूरा किया

अखिलेन्द्र ने कई कंपनियों को स्थापित करने के साथ सभी प्रकार के ग्राहकों की हर तरह की आवश्यकताओं को पूरा किया। अखिलेन्द्र ने कई तरह की कंपनियों को स्थापित किया जैसे टेक्निकल नेक्स्ट (इंटरनेशनल होस्टिंग प्रोवाइडर), एएसटीएनटी मीडिया (80+ न्यूज साइट्स नेटवर्क, स्टार्टअप 199 (वेब ​​डेवलपमेंट कंपनी), इन्फिनिटीफेम (पब्लिक फिगर्स मार्केटिंग एजेंसी) और एएसटीएनटी न्यूजवायर (प्रेस विज्ञप्ति वितरण) आदि। इन कंपनियों के माध्यम से वे महीने का लाखो रुपये कमा रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here