Sunday, December 5, 2021
Home > Video > वैज्ञानिक जहाज का मलबा खोज रहे थे, सागर में 2800 फीट नीचे दिखा विशाल दुर्लभ जीव, हैरान रह गये

वैज्ञानिक जहाज का मलबा खोज रहे थे, सागर में 2800 फीट नीचे दिखा विशाल दुर्लभ जीव, हैरान रह गये

purpleback flying squid

Photo Credits: Twitter

Delhi: धरती का प्रतिशत पानी महासागर का हे। इंसान जानकारी इकट्ठा करने के लिये अंतरिक्ष में भी जा रहा और जहां अभी नहीं पहुँच सकता वहाँ पर उपकरणों को भेज कर खोज करता। लेकिन आज भी हमारी धरती पर खोज करने के लिये बहुत कुछ है और उसमें भी सबसे ज्यादा राज महासागर की गहराईयों में छुपा है, जो इंसान द्वारा अभी तक के खोजे रहस्यों (Mystery) का मात्र छोटा सा हिस्सा है।

इसी तरह की खोज के विषय में आज हम बात कर रहे हैं। मीडिया और फिल्म मेकर्स की एक दल OceanX पहुंची लाल सागर (Red Sea) पर एक अभियान के लिए। यहां एक बहुत बड़ा जहाज का मलबा तो मिला ही, साथ ही दिखा ऐसा जीव जो इंसानों से ज्यादा लंबा था।

अचानक सामने आया विशाल जीव

नवंबर वर्ष 2011 में Pella नाम का जहाज डूबा था। इसकी खोज में गए दल को 2,800 फीट की गहराई पर एक जीव से सामना हुआ जिसे विशाल स्क्विड (Big squid) जैसा माना जा रहा है। टीम के साइंस प्रोग्राम लीड मैटी रॉड्रीग (Matty Rodrigue) ने कहा कि यह दृश्य कभी भूला नहीं सकेंगे।

उन्होंने बताया, ‘हम उस वक़्त जहाज के मलबे की पड़ताल कर रहे थे कि उसी समय अचानक हमारे समक्ष एक विशाल जीव आता है। यह हमारे रिमोटली ऑपरेटेड वीइकल (ROV) को देख कर उससे लिपट जाता है।’ सितंबर 2021 में दल को मालूम चला कि यह एक पर्पलबैक फ्लाइंग स्किवड (Purpleback Flying squid) था जो दो मिटर लंबा हो सकता है।

OceanX रिसर्च वेसल पर इस अभियान पर गई थी, जिसमें 40 टन की क्रेन सबमर्सिबल उपयोग करने हेतु लगी हैं। ये सोनर ऐरे और दूसरे उपकरण को भी पानी के नीचे ले कर जाता है। इस जहाज पर आठ घंटे तक 3,280 फीट की गहराई में रह सखे एसे दो ट्राइटन (Triton) सबमर्सिबल लगे हैं। इसमें रिमोटली ऑपरेटर वीइकल और एक ऑटोनॉमस अंडरवॉटर वीइकल भी है, जो 19,685 फीट गहराई तक जा सकता है।

दुर्लभ होते हैं ये जीव

Pella नाम के जिस जहाज का मलबा की पड़ताल चल रही थी, वह नवंबर 2011 में डूब गया था। यह मिस्र के नूवीबा बंदरगाह की ओर रहा था। इसमें जॉर्डन के अकाबा के नजदीक आग लग गई थी। इस पर 1229 मुसाफिर सवार थे।

हादसे में एक शख्स की जान भी चली गई। रिसर्चर एक अंडरवॉटर रोबॉट की सहायता से मलबे को देख रहे थे, जब उन्हें स्किवड दिखा। बताया गया है कि इस क्षेत्र में कई ऐसे समुद्री जीव रहते हैं। हालांकि, इतने विशाल जीव बेहद दुर्लभ हैं।

ENN Team
This is Staff Of Ek Number News Portal with editor Nitin Chourasia who is an Engineer and Journalist. For Any query mail us on eknumbernews.mail@gmail.com
https://eknumbernews.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2021 | WordPress Theme Vmag
error: Content is protected !!