Thursday, October 29, 2020
Home > India > शाहीन बाग़ में घारा 144 के बाद अब दिल्ली पुलिस आएगी अपने एक्शन में, प्रोटेस्ट ख़त्म समझो

शाहीन बाग़ में घारा 144 के बाद अब दिल्ली पुलिस आएगी अपने एक्शन में, प्रोटेस्ट ख़त्म समझो

Shaheen Bagh 144
Spread the love

Image Credits: ANI

दिल्ली: देश की राजधानी से बड़ी खबर आ रही है। दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने शाहीन बाग (Shaheen bagh) में धारा 144 लागू कर दी है। शाहीन बाग में पिछले कई दिनों से CAA और NRC विरोधी आंदोलन चल रहा है और प्रदर्शनकारियों ने एक सड़क को जाम कर रखा हैं।

दिल्ली पुलिस का कहना है कि 1 मार्च को हिंदु सेना नामक संघठन ने शाहीन बाग में प्रदर्शन की घोषणा की थी हालांकि हिंदू सेना ने प्रदर्शन रद्द कर दिया है, लेकिन पुलिस ने सुरक्षा की द्रष्टि से यहां सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है। ज्वाइंट कमीश्नर डी सी श्रीवास्तव ने कहा की एहतियातन सारे इंतज़ाम किए हैं, जिले के आला अफसर और CRPF की बाहरी फोर्स व दिल्ली पुलिस भी हमारे पास है। हमारी कोशिश है कि शांति बनी रहे और लोगों में सुरक्षा की भावना बनी रहे।

ज्ञात हो की शाहीन बाग में जारी सीएए-एनआरसी विरोधी प्रदर्शन देश भर में चर्चा का विषय रहा है। शाहीन बाग के आंदोलन के बाद देश के कई शहरों में भी ऐसे ही प्रदर्शन हुए। शाहीन बाग का मसला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया। आपको बता दें की 26 फरवरी को शाहीन बाग में सड़क खुलवाने के मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई थी।

इस मौके पर सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली उत्पात पर भी बात की थी। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कहा था कि शाहीन बाग वाली याचिका पर सुनवाई के लिए माहौल ठीक नहीं है, फिलहाल सुनवाई टालना सही रहेगा। सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकारों वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े व वकील साधना रामचंद्रन ने सील बंद लिफाफे में एक रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी।

वार्ताकारों ने यह रिपोर्ट दिल्ली के शाहीनबाग के सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों के साथ बातचीत के बाद सौंपी थी। कोर्ट वकील अमित साहनी व भाजपा नेता नंद किशोर गर्ग की जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही है। साहनी व गर्ग ने अपनी याचिका में शाहीनबाग से प्रदर्शनकारियों को हटाने की मांग की है। प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली व नोएडा को जोड़ने वाली एक प्रमुख मार्ग को रोक दिया है। चांदबाग से पड़ी गुलेल और रिक्शा गुलेल भी मिली है, जिसे मोबाइल गुलेल नाम दिया गया है।

Rickshaw Gulel

आपको बता दें की देश की राजधानी दिल्ली में हुए उपद्रव में अब तक 42 लोगों के प्राण जाने की खबर है और करोड़ों का नुकसान हुआ है। अब इन उपद्रव को लेकर धीरे-धीरे कई खुलासे हो रहे हैं। पता चला है कि इसे अंजाम देने के लिए बोरियों में पत्थर रखकर छतों पर पहुंचाने के लिए ट्रैक्टरों की मदद से भट्ठों से ईंटें मंगाकर उनके टुकड़े किए गए थे। मुस्तफाबाद, करावल नगर, चमन पार्क, शिव विहार सहित अन्य इलाकों में उपद्रव के एक सप्ताह पहले से ही ईंटों से लदे ट्रैक्टरों की आवाजाही बढ़ गई थी।

जिनके घर पर यह ईंट रखी जा रही थी उनका तर्क था कि मकान के निर्माण कार्य के लिए यह ईंटे मंगाए गए थे। जबकि जांच में सामने आया है कि इन ईंटों का उपयोग उपद्रव करने के लिए लाया गया था। मुस्तफाबाद की हर गली में ज्यादातर मकान के बाहर ईंटों का ढेर लगा हुआ है। जबकि जिन मकानों के सामने यह ईंट पड़े हैं वहां कोई निर्माण कार्य भी नहीं हो रहा है। अचानक ईंट के यह ढेर आधे हो गए, जिसका जवाब गली में रहने वाले लोगों के पास नहीं है।


Spread the love
Ek Number
Ek Number
This is Staff Of Ek Number News Portal with editor Nitin Chourasia who is an Engineer and Journalist. For Any query mail us on eknumbernews.mail@gmail.com
http://www.eknumbernews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!