Thursday, September 24, 2020
Home > India > अगर मैं उस रात बुरखा पहनकर नहीं भागती, तो किसी खान की बेगम बन जाती: रूपा गांगुली Story

अगर मैं उस रात बुरखा पहनकर नहीं भागती, तो किसी खान की बेगम बन जाती: रूपा गांगुली Story

Rupa Ganguli Story Khan Begum
Spread the love

Kolkata, West Bengal: कैब बिल 2019 यानी नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर पूरे देश में घनघोर बहस छिड़ी हुई है, इस पर राज्यसभा सांसद और पश्चिम बंगाल से भाजपा नेत्री रूपा गांगुली ने एक अपनी ऐसी कहानी बताई, जो आपको सोचने पर मजबूर कर देगी। भाजपा नेत्री रूपा गांगुली ने बताया कि जब वे बंगाल के दिनाजपुर जिले में स्कूल की सातवीं क्लास में पढ़ती थी, उस वक़्त उन्हें और उनकी माता जी को खुद को बचाने के लिए बुर्के में भागना पड़ा गया था।

रुपए गांगुली ने बताया कि कुछ जालीदार टोपी वाले लोग उनको उठाने के मकसद से आए थे, किन्तु वे और उनकी मां उन्हें चकमा देकर बुरखे में भाग निकले। यदि उन्होंने यह कदम नहीं उठाया होता तो वे एक शख्श ‘खान टाइगर’ की बेगम बन जातीं। किन्तु ऐसा नहीं हो पाया और वे सभी भाग निकली और फिर TV में हमने उन्हें महाभारत में दौपति के रूप में देखा था।

रूपा गांगुली ने गृह मंत्री अमित शाह के संसद में दिए गए भाषण के ट्वीट के रिप्लाई में ट्वीट किया की ‘काश मैं कह पाती। मैंने खुद क्या-क्या झेला है। मैं तो खान टाइगर की बेगम बन जाती, जो मुझे अपहरण करने आए थे। अगर उस रात मैं और मेरी मां बुर्के में भाग नहीं पाती दिनाजपुर से। मैं क्लास सात में पढ़ती थी। अमित शाह जी आपको क्या बताऊं। आज आप और नरेंद्र मोदी को कितने लोगों के आशार्वाद मिले हैं।

रूपा ने कहा ‘हम कहां जाएंगे, अगर भारत हमें जगह न दे? कोई क्यों नहीं सोचेगा? हम कितनी बार बेघर होंगे? मेरे पिता को उनके ही देश में, कभी नारायणगंज, कभी ढाका, कभी दिनाजपुर में गए। हम कितनी बार अपने घरों को बदलेंगे? हमें कितनी बार एक शरणार्थी का जीवन जीना पड़ेगा? नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को धन्यवाद।


Spread the love
Ek Number
Ek Number
This is Staff Of Ek Number News Portal with editor Nitin Chourasia who is an Engineer and Journalist. For Any query mail us on eknumbernews.mail@gmail.com
http://www.eknumbernews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!