Home > India > जबलपुर का गाज़ी बाग़ बन रहा अगला शाहीन बाग़, कमलनाथ राज में यह बैनर लगा: Anti CAA Banner Jabalpur

जबलपुर का गाज़ी बाग़ बन रहा अगला शाहीन बाग़, कमलनाथ राज में यह बैनर लगा: Anti CAA Banner Jabalpur

Jabalpur News CAA NRC Anti Protest
Spread the love

Gazi Bagh, Jabalpur MP: जबलपुर शहर अब ध्रेरे धीरे देश का एक संवेदनशील और देश विरोधी गतिविधि संचालित करने वाला शहर बब्बे की ओर अग्रसर है। मध्यप्रदेश की संस्कारधानी कहे जाने वाला जबलपुर (Jabalpur) शहर वैसे तो अपनी प्राकृतिक सुंदरता और शांत माहौल के लिए जाना जाता था, किन्तु अब एक अखाडा बन गया है। नागरिकता कानून CAA को लेकर मध्यप्रदेश में विरोध-प्रदर्शन चल ही रहा था है।

एक पक्ष CAA के समर्थन में रैलियां निकाल रहा, तो दुसरा पक्ष CAA विरोध में प्रदर्शन कर रहा हैं। इस मामले में जबलपुर शहर (Jabalpur City) अब संवेदनशील हो गया है। CAA समर्थन या विरोध में रैली निकाल रहे लोगों की भिड़ंत कई जगहों पर प्रशासन के लोगों के साथ हुई है। किन्तु मध्यप्रदेश की संस्कारधानी जबलपुर (Sanskardhani Jabalpur) में अब तक CAA को लेकर प्रदर्शन के दौरान दो बार स्थिति बिगड़ चुकी है।

जबलपुर में CAA पर घमासान जारी

मध्य प्रदेश के जबलपुर में नागरिकता कानून CAA पर सबसे अधिक विवाद हुआ है। कुछ समय पहले भी जबलपुर में CAA पर स्थिति खराब हई थी। 20 दिसंबर 2019 को जबलपुर CAA को लेकर प्रदर्शन के दौरान उग्र प्रदर्शन हुआ था। प्रदर्शनकारियों ने जमकर उधम मचाया था। इसके बाद 4 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लागू कर दिया गया था। पुलिस ने प्रदर्शन में शामिल कई लोगों को गिरफ्तार भी किया।

फिर इस घटना के बाद जबलपुर शहर (Jabalpur City) में सब कुछ ठीक होने लगा था। किन्तु एक बार फिर गणतंत्र दिवस 26 जनवरी के दिन माहौल खराब हो गया। गणतंत्र दिवस पर तिरंगा यात्रा निकाल रहे लोगों के ऊपर CAA का विरोध कर रहे लोगों ने पथराव शुरू कर दिया। पुलिस की तत्परता के कारण स्थिति को नियंत्रित किया गया। इसका मतलब यह है की अब Anti CAA Protesrers को गणतंत्र दिवस 26 जनवरी की तिरंगा यात्रा से भी दिक्कत होने लगी है।

जबलपुर का गाज़ी बाग़ अब शाहीन बाग़ दिल्ली की तर्ज़ पर निकला

इतना ही नहीं जबलपुर के एक संवेदनशील क्षेत्र में मैं सड़क ने बीचों बीच एक बैनर (Anti CAA Banner In Jabalpur) लगाया गया है, जो की देश के दोनों सदनों द्वारा पारित नागरिकता कानून CAA को कला कानून बता रहा है। यह जबलपुर का गाज़ी बाग़ (Gazi Bagh Jabalpur) इलाका है, जो दिल्ली के शाहीन बाग़ की तर्ज़ पर CAA का विरोध कर रहा है। ऐसे में इसे देश का दूसरा शाहीन बाग़ करहना गलत नहीं होगा। इस बैनर (Jabalpur Anti CAA Banner) ने अनुसार गाज़ी बाग़, जबलपुर (Gazi Bagh, Jabalpur) में आपका स्वागत है और NRC-CAA कला कानून वापस लो, ऐसा लिखा गया है।

अब जबलपुर के इस बैनर की तस्वीर हर जगह वायरल हो रही है और लोग सवाल कर रहे है की मध्यप्रदेश के जबलपुर शहर में देशविरोधी ताकतों ने यह कार्य करना भी चालू कर दिया। क्या कमलनाथ की कांग्रेस सरकार (Kamalnath Congress Govermnet MP) ने ऐसे पोस्टर और बेनर लगवाने की इजाज़त दी है। इस बैनर पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kanalnath) से जवाब भी माँगा जा रहा है।

जबलपुर शहर भारतीय सेना के लिए बहुत खास है

आपको बता दे की जबलपुर में इस तरह के प्रदर्शन और रद्दी चौकी (Raddi Chowki), आधारताल (Aadhartal) और गोहलपुर क्षेत्र (Gohalpur Jabalpur Area) को शाहीन बाग़ पार्ट 2 (Shaheen Bagh Part 2) बनाए के लिए कही से फंडिंग तो नहीं आ रही है। इसका कई कारण हो सकते है। एक तो जबलपुर भारत के ठीक बीचो बीच स्थित है और भारतीय सेना के लिए बहुत अहम् है। जबलपुर शहर में इंडियन Army के लिए अहम् सामग्री का निर्माण कार्य किया जाता है। ऐसे में जबलपुर शहर देश विरोधी ताकतों के निखाने पर रहता है। जबलपुर का माहौल बिगाड़ना किसी षड्यंत्र का हिस्सा भी हो सकता है।

आपको बता दें की पुलिस जांच में यह बात सामने आई थी कि जबलपुर शहर में एसडीपीआई (SDPI) ने उपद्रव को अंजाम दिया था। एसडीपीआई का प्रदेश अध्यक्ष इरफान उल हक उस दिन वहां मौजूद था। किन्तु मामले में वह अभी भी पुलिस गिरफ्त से दूर है। जबलपुर शहर में नागरिकता कानून पर माहौल लगातार तनावपूर्ण हैं, तो उपद्रवी लोगों को Point कर पुलिस कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है। कुछ जानकारों और भाजपा का आरोप है की CAA विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगों को कांग्रेस का साथ है। ऐसे में सवाल यह है कि क्या राजनैतिक दल के लोग इनके सहारे अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं।

Facebook Comments

Spread the love
Ek Number
Ek Number
This is Staff Of Ek Number News Portal with editor Nitin Chourasia who is an Engineer and Journalist. For Any query mail us on eknumbernews.mail@gmail.com
http://www.eknumbernews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!