Home > Ek Number > अजीत डोभाल की इस चाल के कारण म्यांमार सेना ने 22 उग्रवादी भारत को सौंपे, बड़ी जीत

अजीत डोभाल की इस चाल के कारण म्यांमार सेना ने 22 उग्रवादी भारत को सौंपे, बड़ी जीत

Ajit Doval News
Spread the love

Ajit Doval Image Credits: DD News

दिल्ली: भारत के पूर्वोत्तर राज्य में उग्रवादी संगठनों के विरुद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की प्लानिंग आज सफल हो गई है। भारत का साथ देते हुए म्यामांर की सेना ने नॉर्थ-ईस्ट के 22 उग्रवादी पकड़कर भारत को सौंप दिए हैं। इन उग्रवादियों को म्यांमार की सेना ने एक कार्यवाही के दौरान पकड़ा था। मीडिया की खबर के अनुसार NSA प्रमुख अजीत डोभाल लो सूझबूझ के कारण यह मिशन सफल हो पाया है।

आपको बता दें की ऐसा पहली बार हुआ है की म्यांमार ने पूर्वोत्तर के उग्रवादियों को पकड़कर भारत सरकार को सौंपने के लिए खुद आगे आएं हो। मीडिया की खबर के मुताबिक, इन 22 उग्रवादियों को विशेष विमान से भारत लाया गया है। इन सभी उग्रवादियों को मणिपुर और असम की पुलिस को सौंपा जाएगा। फिर इनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई को आगे बढ़ाया जायेगा।

NSA अजीत डोभाल के इस ऑपरेशन का हिस्सा रहे एक अधिकारी ने बताया कि स्पेशल प्लेन से भारत आ रहे इन 22 उग्रवादियों में से कुछ को पहले मणिपुर की राजधानी इंफाल मे रखा जाएगा और अन्न उग्रवादियों को गुवाहाटी में पुलिस के सुबुर्द्ध किया जाएगा।

म्यांमार से भारत लाये जा रहे उग्रवादियों में एनडीएफबी का कथित गृह सचिव राजेन डाइमरी, यूएनएलएफ का कैप्टेन सनतोम्बा निंगथौजम के अलावा एक अन्न उग्रवादी संगठन का कमांडर परशुराम लेशराम भी है। इन 22 उग्रवादियों में से 4 मणिपुर विद्रोही संगठन के सदस्य हैं जबकि, अन्न असम के विद्रोही संगठन के सदस्य हैं।

Myanmar army hands over to India 22 insurgents from the northeast, including self-styled home secretary of NDFB (S) Rajen Daimary, in an operation monitored by National Security Advisor Ajit Doval. The insurgents have been brought to India on a special plane today.

इससे पहले 2018 में अजित डोवाल के एक ऑपरेशन पर भारतीय सेना ने म्यांमार सेना की मदत से पूर्वोत्तर में एक सर्जिकल स्ट्राइक को भी सफल बनाया था। इसमें बड़ी संख्या में उग्रवादी धराशाही किये गए थे। देश के दुश्मन के ही देश में घुसने से लेकर कैंपों में जाने वाले NSA प्रमुख अजित डोभाल (Ajit Doval) को डर का कोई अहसास ही नहीं होता है। भारतीय इंटरनल खुफिया एजेंसी इंटेलीजेंस ब्यूरों (IB) के चीफ रह चुके और काउंटर टेरेरिज्म का मास्टर माने जाने वाले डोभाल जासूसों की दुनिया के बादशाह है।

अभी हाल ही में सुरक्षा बलों ने जम्‍मू-कश्‍मीर में HM कमांडर रियाज की कहानी का समापन कर दिया। वह 8 साल से फरार था और अब किस्से भी समाप्त हो जायेंगे, लेकिन क्‍या आपको पता है उसके पीछे देश के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल का एक मिशन है। अजित डोभाल के ‘ऑपरेशन जैकबूट’ नामक अभियान के तहत ही घाटी में सफाई का काम ज़ारी रहा है। जो अब पूरा हो गया।

आपको बता दें की जम्मू कश्मीर से Article 370 हटाने के पीछे भी अजित डोवाल की ही सूझबूझ रही थी। आपको याद हो तो जब आर्टिकल 370 को कश्मीर से हटाया गया था तब अजित डोवाल कश्मीर में स्थानीय लोगो के साथ पोहा खाते और चाय पीते देखे गए थे। उस वक़्त डोवाल ने खुद ही भारतीय सुरक्षाबलो को गाइड लाइन देने और आदेश देने का काम किया था।

Facebook Comments

Spread the love
Ek Number
Ek Number
This is Staff Of Ek Number News Portal with editor Nitin Chourasia who is an Engineer and Journalist. For Any query mail us on eknumbernews.mail@gmail.com
http://www.eknumbernews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!