Thursday, May 28, 2020
Home > Ek Number > नागरिकता कानून CAA के बाद जम्मू से रोहिंग्या शरणार्थियों वापस खदेड़ा जायेगा: सरकार का मास्टर प्लान

नागरिकता कानून CAA के बाद जम्मू से रोहिंग्या शरणार्थियों वापस खदेड़ा जायेगा: सरकार का मास्टर प्लान

CAA and Bangladeshi Immigrants
Spread the love

Demo Image Used

नागरिकता कानून (CAA) को लेकर पूरे देश में हुए उत्पात के बीच केंद्रीय मंत्री जीतेंद्र सिंह (Jitendra Singh) ने अब संकेत दिए हैं की जिस दिन संसद में CAA कानून पास हुआ था, ठीक उसी दिन ये कानून जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में भी लागू हो चुका था। मंत्री ने कहा कि अब केंद्रीय सरकार का अगला कार्य रोहिंग्या शरणार्थियों पर होगा, ताकि वे नागरिकता कानून के तहत अपने आप को सुरक्षित न कर पाएं।

इसके साथ जी उन्होंने मांग भी कर दी कि किस प्रकार से अवैध रोहिंग्या शरणार्थी ममता राज़ में पश्चिम बंगाल के रस्ते गुज़रते हुए जम्मू के उत्तरी इलाकों में आकर बस चुके है। उन्होंने कहा कि जिस दिन संसद के दोनों सदनों में नागरिकता कानून को मंजूरी मिली थी, उसी दिन जम्मू-कश्मीर में भी CAA कानून लागू हो गया था, क्योंकि जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद अब भारत के सभी कानून जम्मू और कश्मीर में भी लागू होते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार का अगला कदम रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस भेजने का होगा।

उन्होंने आगे कहा की तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में जम्मू-कश्मीर के अधिकारियों ने माना था कि जम्मू के कई इलाकों में बहुत अधिक तादाद में रोहिंग्या शरणार्थी रहने लगे हैं। रोहिंग्या शरणार्थियों के निर्वासन के अग्नि कदम पर जीतेंद्र सिंह ने कहा, इस बारे में केंद्र में मामला विचाराधीन है।

आगे उन्होंने बताया की जम्मू में रहने वाले अवैध रोहिंग्या शरणार्थियों की सूची तैयार की जा रही है। इसके अलावा जरूरत महसूस होने पर बॉयोमेट्रिक पहचान पत्र भी मुहैया कराय जाएंगे, क्योंकि नागरिकता कानून CAA रोहिंग्या को किसी भी तरह से भारत में रहने और घुसने का फायदा नहीं देता है।


Illegal immigrant from Bangladesh with Indian passport and Bangladesh passport hidden in shoes video is viral on social media.

आपको बता दे की रोहिंग्या CAA के अंतर्गत आते ही नहीं है। रोहिंग्या शरणार्थी उन 6 धार्मिक अल्पसंख्यकों से भी संबंधित नहीं हैं, जो की CAA कानून के तहत नागरिकता दी जाने से संबंधित है। रोहिंग्या उन 3 देशों पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में से भी नहीं आते हैं। असल में रोहिंग्या शरणार्थी म्यांमार से भारत आए हैं। उन्हें वापस जाना होगा। मीडिया में जारी सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अनुसार जम्मू और सांबा के आसपास 1400 से अधिक रोहिंग्या मुसलमान और बांग्लादेशी नागरिक बसे हुए हैं।

Facebook Comments

Spread the love
Ek Number
Ek Number
This is Staff Of Ek Number News Portal with editor Nitin Chourasia who is an Engineer and Journalist. For Any query mail us on eknumbernews.mail@gmail.com
http://www.eknumbernews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!