Tuesday, October 27, 2020
Home > Dharma > अयोध्या में भगवान् राम के अलावा तिरुपति बालाजी मंदिर भी बनेगा, TTD ने UP सरकार से यह डिमांड की

अयोध्या में भगवान् राम के अलावा तिरुपति बालाजी मंदिर भी बनेगा, TTD ने UP सरकार से यह डिमांड की

Tirupati Balaji Ayodhya
Spread the love

File Image Credits: Twitter and IANS

Ayodhya/UP: देश के सुप्रीम कोर्ट के निर्णायक फैसले के बाद अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (Ram Mandir) बनने का कार्य चालु हो चुका है और पिछली 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन भी कर चुके है एयर शिलान्यास कार्यक्रम भी संम्पन ही गया है। अब अगर सब ठीक रहा तो भगवान श्रीराम की जन्मस्थली उत्तर प्रदेश के अयोध्या में भगवान वेंकटेश्वर का मंदिर भी बनेगा।

मिली खबर के अनुसार आंध्रप्रदेश स्थित तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) प्रशासन अयोध्या में वेंकटेश्वर मंदिर स्थापित करने की योजना बना रहा है। TTD इससे पहले वाराणसी और जम्मू में भगवान वेंकटेश्वर का मंदिर बना रहा है। टीटीडी देश का सबसे बड़ा ऐसा मंदिर है जो लगभग 49 अन्य मंदिरों का प्रबंधन करता है।

टीटीडी ट्रस्ट बोर्ड के अध्यक्ष वाईवी सुब्बा रेड्डी ने हाल ही में घोषणा की थी कि मंदिर ट्रस्ट की देश के हर राज्य में भगवान वेंकटेश्वर मंदिर बनाने की योजना है। बोर्ड ने उत्तर प्रदेश राज्य सरकार से अयोध्या में भगवान बालाजी मंदिर की स्थापना के प्रस्ताव के साथ संपर्क किया है।

सूत्रों ने कहा कि टीटीडी ने अयोध्या में एक मुख्य मंदिर परिसर और अन्य सुविधाओं के लिए पांच एकड़ भूमि की मांग की है ताकि वहां भगवान तिरुपति बालाजी का मंदिर (Tirupati Balaji Mandir) स्थापित किया जा सके। आपको बता दें कि हिंदू सनातन धर्म के प्रचार और भगवान वेंकटेश्वर की महिमा को और अधिक प्रतिबद्ध तरीके से प्रचारित करने की ट्रस्ट ने योजना बनाई है। इसी योजना के तरह हर एक राज्य में भगवान वेंकटेश्वर का मंदिर बनाया जाना है।

हाल ही में खबर औ थी की तिरुपति के बालाजी मंदिर (Tirupati Balaji Temple) में शनिवार को भगवान वेंकटेश्वर को एक भक्त ने सोने के दो हाथ भेंट किए। इनकी कीमत 2.25 करोड़ रुपए बताई जा रही है। इनका वजन 6-6 किलो है। तिरुमाला तिरुपति देवदर्शनम (टीटीडी) ने बताया कि इन हाथों को सुबह की पूजा के वक्त भगवान को अर्पित किया गया।

तमिलनाडु के थेनी जिले के कारोबारी थंगा दुराई ने यह जेवर भगवान को अर्पित किए। उन्होंने मीडिया को बताया कि मैं भगवान वेंकटेश्वर को बचपन से मानता हूं। कुछ साल पहले मैं बीमार पड़ गया था और मौत के करीब पहुंच गया था। मेरे बचने की थोड़ी ही उम्मीद बाकी रह गई थी, लेकिन जब भगवान वेंकटेश्वर से प्रार्थना की तो मुझे जीवन दान मिल गया। तभी मैंने यह दान करने के बारे में सोचा था।

तिरुमला स्थित भवनान बालाजी का ‘सालकट्ला ब्रह्मोत्सव’ 19 से 27 सितंबर तक भव्य रूप से मनाया जाएगा। तिरुमला तिरुपति देवस्थानम के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। अधिकारियों यह भी ने बताया कि सालकट्ला ब्रह्मोत्सवस के चलते देवस्थानम को भव्य रूप से सजाया जा रहा है। मंदिर के मुख्य गुंबद के साथ-साथ अन्य मंदिरों का भी मरम्मत किया गया हैं। मंदिर के सभी गलियों को रंगबिरंगी रोशनियों से सजाया गया है।

अधिकारियों ने आगे बताया कि टीटीडी बागवानी विभाग की ओर से मंदिर की दीवारों को विभिन्न फूलों से सजाया गया है। रोशनी से मंदिर जगमगा उठे इसके लिए विशेष व्यवस्था की गई है। घाट रोड का भी मरम्मत किया गया है। साथ ही सभी दीवारों को विभिन्न् रंगों से रंगीन किया जा रहा है।


Spread the love
Ek Number
Ek Number
This is Staff Of Ek Number News Portal with editor Nitin Chourasia who is an Engineer and Journalist. For Any query mail us on eknumbernews.mail@gmail.com
http://www.eknumbernews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!