Thursday, May 28, 2020
Home > Zabardast > कोरोना संकट के कारण इटली की सड़कों पर नोट फैके गये, अब पैसा किस काम का हमारे: Fact Check

कोरोना संकट के कारण इटली की सड़कों पर नोट फैके गये, अब पैसा किस काम का हमारे: Fact Check

Italy Money On Road
Spread the love

Iamge Credits: Twitter

Delhi: कोरोना महामारी से संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इससे संक्रमित लोगों की संख्या दुनिया में बढ़कर 1016426 हो गई है। दुनिया में कोरोना वायरस ने 53242 से ज्यादा लोगों ने अपने प्राण खो दिए है। कोरोना महामारी का यह विकराल रूप अभी थमने का नाम भी नहीं ले रहा है।

इटली, स्पेन और अमेरिका में कोरोना वायरस कहर बरपा रहा है। चीन के बाद इटली में कोरोना वायरस के चलते प्राण गवाने लोगों की संख्‍या बहुत तेजी से बढ़ी है। अब सबसे प्राण इटली में गए है। कोरोना वायरस चीन के वुहान से अन्‍य देशों में फैला है। अमेरिका में अब कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या एक लाख को पार कर गयी है।

Corona Virus Update
Demo Image

कोरोना वायरस (Coronavirus) के कहर से यूरोप में सबसे अधिक इटली प्रभावित हुआ है। यूरोप में सबसे पहले लॉकडाउन भी इटली में हुआ है। हजारों लोगों के प्राण जाने के बाद वहां के लोगों में निराशा और हीनता आना स्‍वाभाविक भी है। इन सबसे चलते अब सोशल मीडिया पर इस तरह की तस्‍वीरें पिछले कुछ दिनों से वायरल हो रही हैं कि इटली के लोगों ने बहुत अधिक निराशा में अपने पैसे गलियों, सड़कों पर फेंकने शुरू कर दिए हैं।

सोशल मीडिया की खबर के मुताबिक़ उनका कहना है कि जब सगे-संबंधी नहीं बचे और इस तरह के लॉकडाउन में ही अपना जीवन व्यतीत करना है, तो पैसों को रखने का क्‍या लाभ है, पैसों की कोई जरूरत नहीं रही। अभी भी यह प्रश्न बनता है की इस घटना में कितनी सच्‍चाई है।

असल में सच्चाई कुछ और ही है

दरअसल सोशल मीडिया पर सड़कों पर पैसे फेंकने की जो तस्‍वीरें वायरल हो रहीं हैं, वे तो सही हैं, लेकिन उनका इटली से कोई वास्‍ता नहीं है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि इस तरह की तस्‍वीरें मार्च, 2019 से ही इंटरनेट पर वायरल हो रही हैं और उस दौरान दुनिया ने कोरोना वायरस को ना तो सुना था और न ही इसके कहर को देखा था।

फिर यह सवाल कायम है की पैसे फेंकने की मामले की सच्‍चाई क्‍या है। तो थोड़ी खोज बीन के बाद पता चला की बदहाली से जूझ रहे लैटिन अमेरिकी देश वेनेजुएला ने अगस्‍त 2018 में अपनी करेंसी को बदलने का फैसला किया था। इसके चलते उन्‍होंने अपनी पुरानी करेंसी Bolívar Fuerte की जगह पर Bolivar Soberano चलाने का फैसला किया।

इसके फलस्वरूप जब पुरानी करेंसी की कोई वैल्‍यू नहीं रह गई, तो वेनेजुएला के लोगों ने उन पुराने नोटों को रद्दी के रूप में सड़कों पर फेंकना शुरू कर दिया। उस समय भी ऐसी खबरें आई थी कि वेनेजुएला में कुछ लोगों ने एक बैंक को लूटा और उसके नोटों को ये साबित करने के लिए जला दिया कि अब उनका कोई मूल्‍य नहीं रह गया है।

इसका मतलब यह है की पिछले एक साल से सड़कों पर पैसे फेंकने की तस्‍वीरें इंटरनेट पर दिखाई दे रही हैं। अब यही तस्वीरें अभी कोरोना के संकट के समय इटली की बताकर सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही है। तो अब यह साफ़ हो गया की इटली में सडकों पर पैसे-नोट फेंकने वाली तस्वीरें सरासर झूठ है और कही और की तस्वीरों को इटली की बताया जा रहा है।

Facebook Comments

Spread the love
Ek Number
Ek Number
This is Staff Of Ek Number News Portal with editor Nitin Chourasia who is an Engineer and Journalist. For Any query mail us on eknumbernews.mail@gmail.com
http://www.eknumbernews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!